मरीजों के लिए 'देवदूत' बने 108,102 एंबुलेंस के अधिकारी, कर्मचारी

मरीजों के लिए 'देवदूत' बने 108,102 एंबुलेंस के अधिकारी, कर्मचारी
रायबरेली-- कोरोना संकटकाल में 108 / 102 एंबुलेंस सेवा मरीजों के लिए वर्दान वरदान साबित हो रही है। जिसे और अधिक प्रभावशाली एवं सुविधाजनक बनाने के लिए कार्यदाई संस्था लगातार प्रयासरत हैं। संस्था का प्रमुख उद्देश्य है कि मरीजों को समय पर बेहतर से बेहतर सुविधा मिले ताकि बीमार एवं दुर्घटना के शिकार लोगों के जीवन को बचाया जा सके। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र हरचंदपुर में तैनात एंबुलेंसों का जायजा लेने के लिए सीएचसी हरचन्दपुर पहुंचे प्रोग्राम मैनेजर संजीव गुप्ता, प्रभारी राजकुमार ने, एंबुलेंस से सीएचसी इलाज के लिए आए मरीजों एवं तीमारदारों से जानकारी ली। 

पूछने पर तीमारदारों ने बताया कि फोन करने के कुछ ही मिनटों बाद समय से एंबुलेंस उनके घर पहुंच गई थी। एंबुलेंस स्टाफ का बहुत अच्छा व्यवहार रहा। तीमारदारों ने बताया कोरोना संकटकाल में जहां बीमारी का नाम सुनकर गांव एवं मोहल्ले के लोग दूर भाग जाते हैं,अपने तक साथ छोड़ देते हैं। वहीं एंबुलेंस के कर्मचारी अपनी जान की परवाह किए बगैर दूसरों की जान बचा रहे हैंं। जिसके लिए एंबुलेंस स्टाफ की जितनी सराहना की जाए कम है। इस संकट की घड़ी में एंबुलेंस स्टाफ देवदूत बनकर मरीजों की जान बचा रहा है। प्रोग्राम मैनेजर संजीव गुप्ता, प्रभारी राजकुमार ने कम्पनी द्वारा दिए गए ग्लब्स, मास्क, सैनिटाइजर आदि सामान चंदन सिंह,मैसर अली, अनिल, वीरेंद्र, सत्य प्रकाश, रजवंत, अरुण सहित एमटी और पायलट को देकर सभी का उत्साहवर्धन किया। प्रोग्राम मैनेजर संजीव गुप्ता ने एमटी और पायलटों को निर्देशित करते हुए कहा कि इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए कि मरीजों एवं तीमारदारों को अस्पताल लाते समय उन्हें किसी भी प्रकार की असुविधा न हो। मरीजों को समय से अस्पताल पहुंचाकर उनकी जान बचाने में मदद करना हम सबका कर्तव्य ही नही नैतिक दायित्व भी है, यही सच्ची मानव सेवा है। जीवन में इससे बड़ा और इससे अच्छा कोई दूसरा कर्म नही हो सकता।
कोरोना मरीजों के लिए लगाई गई 15 एंबुलेंसे

प्रभारी राजकुमार ने बताया कि जिले में जी.वी.के.ई.एम.आर द्वारा संचालित 108 एंबुलेंस की 44 गाड़ियां, 4 ए.एल.एस. एवं 102 की 40 गाड़ियां संचालित है जो पूरी तरह से नि:शुल्क रूप से अपनी सेवाएं दे रही हैं। श्री गुप्ता ने बताया कि जिले में 108 की 15 विशेष एंबुलेंसे कोरोना मरीजों को एल वन हॉस्पिटल ले जाने के लिए लगाई गई। जिममें तैनात कर्मचारी पूरी तत्परता के साथ अपना कार्य कर रहे है।

कोरोना संकटकाल में अपना फर्ज निभा रहा एंबुलेंस स्टाफ

तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को लेकर जहां हर कोई भयभीत है, वहीं एंबुलेंस स्टॉफ कर्तव्य पथ पर अडिग रहकर अपना फर्ज निभा रहा है। एंबुलेंस स्टाफ का कहना है कि वे अपने आपको सौभाग्यशाली मानते हैं जो उन्हें लोगों की जान बचाने का एक अवसर मिल रहा है।

फेसबुक पेज को लाइक करना बिल्कुल न भूले