रायबरेली-राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संविदा कर्मचारी संघ ने रखा दो घंटे का कार्य बहिष्कार

रायबरेली-राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संविदा कर्मचारी संघ ने रखा दो घंटे का कार्य बहिष्कार

-:विज्ञापन:-

रिपोर्ट-केशवानंद शुक्ला

रायबरेली--राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संविदा कर्मचारी संघ के प्रदेश अध्यक्ष ठाकुर मयंक प्रताप सिंह के आवाहन पर कार्यकारिणी के प्रदेश भर के समस्त राष्ट्रीय स्वास्थ्य कर्मी संविदा कर्मचारी ने काली पट्टी बांधकर 2 घंटे तक कार्य बहिष्कार किया।
आपको बताते चलें प्रदेश अध्यक्ष ने 26 जुलाई को लखनऊ आमंत्रित किया है अपनी रणनीति के  तहत जिले के कर्मचारियों का लगातार बहिष्कार चल रहा है . ठा0मयंक प्रताप सिंह व महामंत्री डॉ0 इस्लाम मोहम्मद तव्वाब के आवाह्न पर प्रदेश में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अंतर्गत कार्यरत समस्त संविदा कर्मचारियों ने अपने-अपने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर काला फीता बांधकर लगातार विरोध कर रहे हैं। अभी तक कोरोना ड्यूटी करते हुये शहीद हो चुके संविदा कर्मचारियों को  कोई न्याय नहीं मिला । साथ ही शासन से ये अपील किया कि हमारे जो संविदा साथी कोरोना से शहीद हुए हैं उनको सरकार द्वारा घोषित प्रधानमंत्री गरीब कल्याण बीमा योजना के अंतर्गत निर्धारित रु0 50 लाख की बीमा धनराशि शहीद हुए कर्मचारियों के  निराश्रित और शोकाकुल परिवार को प्रदान की जाये ,जो अभी तक लम्बित है।
ध्यातव्य है की करोना के दौरान मरीजों की सेवा में कटिबद्ध होकर संविदा कर्मचारियों ने अपनी सेवाएं पूरे प्रदेश में प्रदान की हैं और कई संविदा कर्मचारी संक्रमित होकर काल के गाल में समा गए हैं। जिसके क्रम में कर्मचारियों की आत्मा की शांति के लिए एवं प्रदेश सरकार का ध्यान कर्मचारियों की ओर आकृष्ट करने के लिए एनएचएम संघ प्रयासरत है। निश्चित रूप से संविदा कर्मचारी बिना डरे  अपने आप को समर्पित करके कोरोना के रोगियों की सेवा कर रहे हैं जो कि अनुकरणीय है। प्रदेश अध्यक्ष ने 26 जुलाई को मिशन निदेशक कार्यालय का घेराव करने की पूरी तैयारी कर ली।सभी अस्पतालों के प्रतिनिधियों की एक बैठक कर आगे की रणनीति बनायी गयी जिसमें निर्णय लिया गया कि 21 जुलाई को 2 घंटे कार्य बहिष्कार एंव उसके बाद 25 जुलाई तक काली पट्टी बांध कर कार्य करेंगे मांगो को न माने जाने के स्थिति में 26 जुलाई को मिशन निदेशक के कार्यालय का घेराव किया जायेगा। कर्मचारियों के साथ कोई अनहोनी होती है तो कर्मचारी उसका मुंहतोड़ जबाब देगें। आन्दोलन को पूरी तरह शान्तिपूर्ण रखा जायेगा।