कोविड-19 से मरने वालों का डेटा तैयार करेगी दिल्ली सरकार, मुख्यमंत्री ने जारी किए निर्देश

कोविड-19 से मरने वालों का डेटा तैयार करेगी दिल्ली सरकार, मुख्यमंत्री ने जारी किए निर्देश

-:विज्ञापन:-

कोरोना से संक्रमित कितने लोग ठीक हुए और कितने लोगों की मौत हो गई, स्वास्थ विभाग अब कोविड अस्पताल वार इसका डेटा तैयार करेगा। मौत के कारणों का आकलन भी दिया जाएगा। शुक्रवार को डेथ ऑडिट को लेकर स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट प्रस्तुति के दौरान मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अधिकारियों को ये निर्देश जारी किया है। आधिकारिक सूत्रों के मुताबित मुख्यमंत्री ने दो दिन बाद फिर अफसरों को बैठक के लिए बुलाया है।

 दरअसल दो दिन पहले मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य विभाग से बीते दो सप्ताह में हुए मौतों का आकलन करके रिपोर्ट मांगी थी। इसमें मौत के करणों को चिन्हित करने के लिए कहा गया था, जिससे मौत के कारणों को चिन्हित कर उसे दूर किया जा सके। साथ ही कोरोना के कारण जान गंवाने वालों की संख्या को कम किया जा सके। शुक्रवार को एक अधिकारी उसी की एक रिपोर्ट प्रस्तुत करने मुख्यमंत्री के सामने पेश हुए। सूत्रों की मानें तो शाम 5 बजें आवास पर हुई बैठक में मौत पर विस्तार से चर्चा हुई। जहां मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से कहा कि वे सभी कोविड अस्पताल वार डेटा तैयार करें। इनमें निजी व सरकारी दोनों अस्पताल शामिल होंगे।

अभी भारत में कोरोना के कुल संक्रमितों की संख्या 8 लाख के बेहद करीब पहुंच गई है। इस बीच सरकार ने कहा है कि वह इस संख्या को लेकर चिंता में नहीं है। स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने शुक्रवार को कहा कि देश में करोना रिकवरी दर अधिक है और मृत्यु दर बेहद कम इसलिए केसों की संख्या से चिंता नहीं है। उन्होंने फिर दोहराया कि देश में अभी कम्युनिटी ट्रांसमिशन नहीं है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत करते हुए कहा, ''कोविड-19 के मरीजों की रिकवरी दर 63 फीसदी है और मृत्यु दर महज 2.72 फीसदी। हम केसों की संख्या को लेकर चिंतित नहीं हैं। हम टेस्टिंग बढ़ा रहे हैं ताकि अधिकतर केसों को पहचान हो सके और उनका इलाज हो सके। करीब 2.7 लाख टेस्ट प्रतिदिन हो रहे हैं।''