मार्ग निर्माण में हो रही अनियमितता को लेकर अकेले ही धरने पर बैठे किसान नेता

मार्ग निर्माण में हो रही अनियमितता को लेकर अकेले ही धरने पर बैठे किसान नेता

-:विज्ञापन:-

डामर डालने के नाम पर केवल खानापूर्ति की जा रही है-रमेश सिंह

रिपोर्ट--सुधीर अग्निहोत्री

लालगंज (रायबरेली)--सरकार कोई भी हो भ्रष्टाचार चलता ही रहेगा!सरकार तो बदलती रहती हैं लेकिन इस दौरान भ्रष्टाचार में जरा भी गिरावट होती नहीं दिखती है!भ्रष्टाचारियों के लिए सरकार किसकी है कोई मायने नहीं रखती है!एक ऐसा ही मामला यूपी के जनपद रायबरेली से प्रकाश में आया है,जहां सड़क निर्माण में कम डामर डालने के खेल को देखते हुए किसान नेता आग बबूला हो गए और मार्ग निर्माण में अनियमितता का आरोप लगाते हुए किसान नेता अकेले ही सड़क पर धरने में बैठ गए!लालगंज से सरेनी तक 15 किलोमीटर सड़क का निर्माण लोकनिर्माण विभाग 29 करोड़ से अधिक की लागत से करा रहा है!हरीपुर गांव तक डामर रोड़ का निर्माण हो चुका है!हरीपुर गांव के सामने सड़क पर डामर डाला जा रहा है और इसी सडक निर्माण में अनियमितता का आरोप लगाते हुए वरिष्ठ भाजपा किसान नेता रमेश सिंह सड़क पर धरने पर बैठ गए!

उनका आरोप था कि डामर डालने के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति की जा रही है!जानकारी होने पर लालगंज कस्बा इंचार्ज समेत लोकनिर्माण विभाग-दो के सहायक अभियंता शिवलाल यादव मौके पर पहुंचे!वहीं सहायक अभियंता का कहना था कि सड़क पर डामर के रूप में जो टैग कोड डाला जा रहा है वह स्टीमेट में नहीं है!इसे ठेकेदार अपनी सुविधा के लिए डाल रहा है तो इसे कम डालने का कोई प्रश्न ही नहीं उठता!सहायक अभियंता ने धरने पर बैठे वरिष्ठ भाजपा किसान नेता रमेश सिंह को मौके पर ही सड़क का स्टीमेट व कई जगह पर गिट्टी खुदवाकर उसकी गुणवत्ता की जांच भी कराई!सहायक अभियंता द्वारा गुणवत्ता पूर्ण सड़क का निर्माण कराए जाने के आश्वासन पर किसान नेता रमेश सिंह ने धरना समाप्त किया!इस मौके पर भाजपा नेता दीप प्रकाश शुक्ला भी मौजूद रहे!वहीं वरिष्ठ भाजपा किसान नेता रमेश सिंह ने आरोप लगाते हुए कहा कि भ्रष्ट अधिकारियों व ठेकेदारों की मिलीभगत से केंद्र की मोदी व उत्तर प्रदेश की लोकप्रिय योगी सरकार को बदनाम करने की साजिश की जा रही है!साथ ही साथ श्री सिंह ने कहा कि पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों व ठेकेदारों की मिलीभगत से हो रहे भ्रष्टाचार को देखकर योगी सरकार की नष्ट हो रही छवि के विरुद्ध मैं धरने पर बैठ गया!लगभग तीन घंटे बाद मानक के अनुरूप गुणवत्ता पूर्ण सड़क निर्माण के आश्वासन के बाद धरना समाप्त किया गया!