रायबरेली- किसानों की फसलों को चट कर रहे बेसहारा मवेशी

रायबरेली- किसानों की फसलों को चट कर रहे बेसहारा मवेशी

-:विज्ञापन:-


रिपोर्ट-सागर तिवारी 
मो-8742935637


ऊंचाहार-रायबरेली- बेसहारा मवेशियों का कहर दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है। किसान रात दिन खेतों की रखवाली करते हैं। जरा सी चूक हो जाने पर बेसहारा मवेशी फसलों को चट कर जाते हैं।

बेसहारा मवेशियों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। किसान अपने खेतों की रखवाली के लिए खेत के चारों ओर बॉस, यूकेलिप्टस, की बल्ली, लोहे के एंगल आदि में कटीले तारों को लगाकर खेतों की सुरक्षा करते थे। कटीले तारों पर सरकार द्वारा पाबंदी लगाए जाने के बाद ज्यादातर किसानों ने कटीले तार खेतों से निकाल दिए हैं। छोटे बड़े सभी किसान फसलों की सुरक्षा को लेकर दिन रात मेहनत करते हैं। थोड़ी सी असावधानी होने पर झुंड के झुंड बेसहारा मवेशी फसलों को चट कर जाते हैं। किसान दिलीप कुमार, लाल बहादुर, संतोष कुमार, रामशंकर, ननकऊ, धर्मेश आदि का कहना है कि अब तो खेती से लागत


 निकालना भी मुश्किल हो गया है। सरकार द्वारा बेसहारा मवेशियों को लेकर कोई पुख्ता इंतजाम नहीं किए जा रहे हैं इनकी संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है। पशु चिकित्सक अनुराग सिंह ने बताया है कि पट्टी रहस कैथवल, सुदामापुर तथा धूता में सरकार द्वारा दो गौशालाओं का निर्माण करवाया गया है। जिसमें एक सौ पचास मवेशियों के रहने की व्यवस्था की गई है। पहले से ही क्षमता से अधिक निराश्रित मवेशी गौशाला में मौजूद हैं।