रायबरेली-स्वच्छ भारत मिशन को पलीता लगा रहे सफाईकर्मी*

रायबरेली-स्वच्छ भारत मिशन को पलीता लगा रहे सफाईकर्मी*

-:विज्ञापन:-

रिपोर्ट-सुधीर अग्निहोत्री


*सफाई कर्मियों की लापरवाही से गांवों में लगा गंदगी का अंबार*

*गंदगी से बजबजा रही हैं नालियां,संक्रामक बीमारियों का बढा खतरा*

*सरेनी विकास खंड में 157 सफाई कर्मियों के जिम्मे 81 ग्राम पंचायतों में सफाई की जिम्मेदारी*

सरेनी-रायबरेली-सफाई कर्मियों की लापरवाही से गांवों में गंदगी के अम्बार लगे हुए हैं।नालियां बजबजा रही हैं!इसमें मच्छरों का प्रकोप भी शुरू हो गया है।ग्रामीण इलाकों में घर-घर लोग बीमार हो रहे हैं।नालियों में दवा का छिड़काव नहीं हो रहा है।मालूम हो कि सरेनी विकास खंड में 157 सफाई कर्मियों के जिम्मे 81 ग्राम पंचायतों में सफाई की जिम्मेदारी है किंतु इनमे से आधे सफाई कर्मी ही गांवों सफाई के लिए जाते हैं।ज्यादातर सफाई कर्मी सिर्फ ग्राम प्रधान या गांव के किसी व्यक्ति से हाजिरी लगवाकर चले जाते हैं।लापरवाह सफाई कर्मचारियों द्वारा प्रधानमंत्री के स्वच्छ भारत मिशन को पलीता लगाया जा रहा है!समाज सेविका सुमन सिंह सरेनी का आरोप है कि सफाई कर्मी उन इलाकों में कभी नहीं जाते हैं जहां गंदगी है।वे सिर्फ अधिकारियों के सिलेंडर ढोने या निजी काम निपटाने में लगे रहते हैं।इसी का नतीजा है कि अगर आम आदमी इनसे सफाई की गुजारिश भी करता है तो उसकी नहीं सुनते।श्रीमती सिंह ने गांवों मे फ़ैली गंदगी का मुआयना कराकर लापरवाह सफाई कर्मियों को दंडित किए जाने की मांग की है,ताकि आसन्न गर्मी के मौसम व कोरोना की चौथी लहर के मद्देनजर गांव के लोगों को संक्रामक बीमारियों से बचाया जा सके।