रूस-यूक्रेन के बीच तीसरे दौर की बातचीत खत्म, युद्ध विराम पर नहीं बनी बात

रूस-यूक्रेन के बीच तीसरे दौर की बातचीत खत्म, युद्ध विराम पर नहीं बनी बात

-:विज्ञापन:-

रूस और यूक्रेन के बीच जंग जारी है। इसी बीच सोमवार को बेलारूस में दोनों देशों के बीच तीसरे दौर की बातचीत भी खत्म हो चुकी है। एक तरफ जहां बातचीत का यह दौर भी बेनतीजा रहा, वहीं दूसरी ओर यूक्रेन ने इसे 'सकारात्मक परिणाम' बताया है। यूक्रेनी राष्ट्रपति के एक सलाहकार ने कहा कि रूस के साथ तीसरे दौर की वार्ता संपन्न हुई, मानवीय गलियारा बनाने के संबंध में प्रगति हुई।  हालांकि एक रूसी वार्ताकार ने कहा कि अभी तक उनकी उम्मीदें "पूरी नहीं हुई" हैं। 

यूक्रेनी राष्ट्रपति कार्यालय के सलाहकार मिखाइल पोडोलीक वार्ता में यूक्रेनी पक्ष का नेतृत्व कर रहे प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा थे। उन्होंने कहा कि युद्धविराम और सुरक्षा गारंटी पर चर्चा किए जाने के साथ ही कुछ बुनियादी राजनीतिक मुद्दों पर गहन विचार-विमर्श किया गया।

बेलारूस के ब्रेस्ट क्षेत्र में रूसी और यूक्रेनी प्रतिनिधिमंडलों के बीच हुई तीसरे दौर की वार्ता में रूसी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व रूसी राष्ट्रपति के सहयोगी व्लादिमीर, उप विदेश मंत्री एंड्री रुडेंको, उप रक्षा मंत्री अलेक्जेंडर फोमिन, बेलारूस में रूसी राजदूत बोरिस ग्रिजलोव और अंतरराष्ट्रीय मामलों की राज्य ड्यूमा समिति के अध्यक्ष लियोनिद स्लटस्की ने किया।
 
वहीं, यूक्रेनी प्रतिनिधिमंडल में यूक्रेनी राष्ट्रपति कार्यालय के सलाहकार मिखाइल पोडोलीक, यूक्रेनी संसद में सत्ताधारी सर्वेंट ऑफ द पीपल पार्टी के प्रमुख डेविड अरखामिया, रक्षा मंत्री ओलेक्सी रेजनिकोव और अन्य यूक्रेनी राजनेता शामिल रहे।

यूक्रेन में मानवीय स्थिति पर चर्चा करेगा यूएनएससी 

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने सोमवार को यूक्रेन में बिगड़ती मानवीय स्थिति पर चर्चा के लिए एक बैठक का आयोजन किया। ऐसा कहा जा रहा है कि रूसी आक्रमण की शुरुआत के बाद से अब तक 17 लाख  से अधिक यूक्रेनियन मध्य यूरोपीय देशों में प्रवेश कर चुके हैं। संयुक्त राष्ट्र सैन्य संघर्ष को समाप्त करने के लिए निरंतर राजनयिक प्रयास कर रहा है। 

फ्रांस और मैक्सिको ने पिछले हफ्ते संघर्ष के मानवीय प्रभाव को संबोधित करने के लिए यूएनएससी के लिए एक प्रस्ताव तैयार किया था, हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि सोमवार को हुई इस बैठक में इसे औपचारिक रूप से पेश किया या नहीं।