रायबरेली-रायबरेली की चार तहसीलों के 60 गांवों से गुजरेगी बुलेट ट्रेन, इन गांवों में होगा भू अधिग्रहण

रायबरेली-रायबरेली की चार तहसीलों के 60 गांवों से गुजरेगी बुलेट ट्रेन, इन गांवों में होगा भू अधिग्रहण

-:विज्ञापन:-

रिपोर्ट-केशवानंद शुक्ला

दिल्ली से वाराणसी तक बुलेट ट्रेन के लिए नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरिडोर बनना है। यह रेलपथ जनपद की चार तहसीलों के 60 गांवों से होकर निकलेगा। यहां के पर्यावरण और सामाजिक विषयों पर जनता से परामर्श करने के लिए जल्द ही कार्यदायी संस्था के अफसर आने वाले हैं, जिसके बाद भूमि अधिग्रहण का काम शुरू हो जाएगा।

सड़क एवं राजमार्ग मंत्रालय से 865 किमी लंबे तीव्रगति रेलमार्ग को बनाने का काम गुड़गांव, हरियाणा की इजिस इंडिया कंसल्टिंग इंजीनियर्स प्राइवेट लिमिटेड को दिया गया है। कार्यदायी संस्था द्वारा नवंबर 2020 से अब तक जिला प्रशासन से पांच बार पत्राचार किया जा चुका है। सात मई 2021 को इन 60 गांवों के ग्रामीणों के साथ बैठक करके पर्यावरण और सामाजिक विषयों पर वार्ता भी होनी थी, लेकिन कोविड संक्रमण की दूसरी लहर आने के कारण इसे स्थगित करना पड़ा। अब जब संक्रमण का ग्राफ बहुत नीचे आ गया है तो एक बार फिर से इन गांवों के किसानों से संपर्क साधा जा रहा है। इसी सप्ताह संस्था के प्रतिनिधि प्रशासनिक अफसरों से मुलाकात करके ग्रामीणों के साथ बैठक करके मीटिंग की तिथि निर्धारित करने वाले हैं। जनपद में इसके कितने स्टेशन बनेंगे, ये अभी तय नहीं हुआ है।

राम अभिलाष, एडीएम प्रशासन ने बताया कि इन गांवों में होगा भू अधिग्रहण :महराजगंज- सरौरा, चुरवा, इसिया, नीम टीकर, टोडरपुर, बछरावां, बन्नावां, कंदावा, खैरहनी सदर- जोहवाशर्की, दतौली, कनहट, प्यारेपुर, हिडइन, हिलालगंज, गुलूपुर, अजमतउल्लागंज, अरिवार, ढोंढरी, साेनिकमऊ, देरौर, दरीबा, रसूलपुर गुंडा, चंदौली, नकफुलहा, बिनोहरा, फकरुल हसन खेड़ा, मछेछर, सैदनपुर, सुलखियापुर, खनुआ, बेलाभेला, उदरहटी, एकौना, चकबलिहार ऊंचाहार- हरदीटीकर, चंदौली, धर्मदासपुर, सराय श्रीबक्स, केवलापुर, बरेठा, मोहनपुर, गोपियापुर, जगतपुर, धोबहा, जिगना, रोझइया, भीखमशाह, रोझइया गोकुलपुर, इटौरा बुजुर्ग, सलारपुर, मिर्जापुर, नडाेरामाफी, डडौली, चिटना मरियानी, रघुनाथपुर, लकेदवा, उमरन, भवानीदीन पुर, कमालपुर, लक्ष्मणगंज, बछइयापुर, मरहामऊ, रसूलपुर सलोन- मिरजहनपुर, कमालपुर, डोमापुर, कोदारी

'हाई स्पीड रेल कॉरिडोर में चार तहसीलों के 60 गांव आ रहे हैं। इन गांव के ग्रामीणों से वार्ता के बाद भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। इजिस संस्था के अधिकारी लगातार संपर्क में हैं।