10 किलो धान  के बदले 1 किलो आलू 1 किलो प्याज

10 किलो धान  के बदले 1 किलो आलू 1 किलो प्याज
बछरावां रायबरेली-- आजादी के बाद शायद ही कभी ऐसा वक्त आया  हो जब मौजूदा समय की उल्टी गंगा देखने को मिली हो हालांत यह है अगर किसान 10 किलो धान बेचता है तो उसे1 किलो आलू और 1 किलो प्याज मिलता  है मौजूदा समय में बछरावां बाजार के अंदर पुराना आलू ₹50 किलो नया  आलू ₹60 किलो नया प्याज ₹50 किलो पुराना प्याज ₹60 किलो बिक रहा है किसान का धान ₹10 किलो से लेकर ₹12 किलो तक व्यापारी खरीद रहे हैं बात करें अगर खरीद केंद्रों की  तो वह आम किसान के लिए हाथी के दांत साबित हो रहे हैं इन केंद्रों पर केवल  बोनीमंसूरी के अलावा कोई भी  धान खरीदा नहीं जा रहा है वह भी जब 10 चक्कर किसान  दौड़ता  है सुविधा शुल्क भी अदा करता है तब कहीं जाकर उसके धान की तौल हो पाती  है अगर वह सुविधा शुल्क नहीं देता है तो कभी बोरे नहीं है कभी धान में नमी है कहकर उसे टरका दिया जाता है इन केंद्रों पर धान बेचने के लिए पहले किसान को रजिस्ट्रेशन कराना होता है इसके बाद लेखपाल से टोकन लेना पड़ता है क्योंकि उसके पास कितनी खेती है इसका प्रमाण लेखपाल ही देता है और हालात यह हैं  कि ईश्वर के दर्शन तो सुलभ हो सकते हैं परंतु लेखपाल के दर्शन संभव नहीं हो पाते  डीजल पेट्रोल की महंगाई के कारण सभी वस्तुओं के दाम बढ़ चुके हैं और सरकार दावा कर रही है कि वह आम जनता के लिए वह मुफ्त राशन उपलब्ध करा रही है किसानों को ₹6000 वार्षिक दे रही है परंतु यह कितनों को मिल रहा है एक सोचनीय बिंदु  है बेचारा गरीब वह किसान सोच नहीं पा रहा है  कि वह सरकार के दावों पर और उसके द्वारा दी जा रही राहत पर हंसे या रोए   इस सब से बेखबर सरकार के नुमाइंदे वृक्षारोपण शौचालय आवास वितरित कर केवल अपना वोट बैंक मजबूत कर रही  है!

फेसबुक पेज को लाइक करना बिल्कुल न भूले